Holi 2022: holi kab है और date किस दिन की है

Holi 2022 ;होली का त्योहार हिंदू धर्म का एक बहुत ही लोकप्रिय त्योहार होता  है, यह होली त्योहार रंगों का त्योहार होता है जिससे  खुशी को  साझा करने और रिश्ते बनाने के लिए मनाया जाता है । Holi 2022 के त्योहार का न केवल धार्मिक तरीका से बल्कि सांस्कृतिक दृष्टिकोण से भी अपना महत्व है। होली का त्योहार राजा हिरण्यकशिपु और विष्णु भक्त प्रह्लाद की कथा के कारण मनाया जाता है ये त्योहार के बारे में जानते है तो आइए अब जानते हैं कि 2022 में होली कब हैहोली कब है 2022 में

holi kab hai

2022 में होली कब है – और किस दिन है 

Holi kab hai – हिंदू कैलेंडर के अनुसार, होली का त्योहार फाल्गुन मॉस की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। ये वर्ष 2022 में, होली शुक्रवार, के दिन और  date 18 मार्च को मनाई जाएगी, बहुत से लोग होली को  धुलंडी और बड़ी होली भी कहते हैं। होलिका दहन 2022 की होली के लिए 17 मार्च को मनाया जायेगा, जिसे कई स्थानों पर छोटी होली भी कहा जाता है।

क्यों मनाई जाती है होली -और  holi kab ki hai

क्यों मनाई जाती है होली – होली के त्योहार का नाम राजा हिरण्यकशिपु की बहन के नाम पर ही  रखा गया था , जिसका नाम होलिका हुआ था। होलिका राजा के पुत्र विष्णु भक्त प्रह्लाद के साथ जलती हुई लकड़ी पर बैठी थी, जिसके कारण होलिका जल गई थी, लेकिन भगवान विष्णु के आशीर्वाद से प्रह्लाद बच गया था। लेकिन इस दिन से हिंदू धर्म में होलिका दहन प्रचलित है और होली के त्योहार को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है।

होलिका दहन के दिन महिलाएं दिन में होलिका की पूजा करती हैं और पुरुष शाम को एक साथ होलिका दहन करते हैं। दहन के बाद, वे एक दूसरे को गले लगाते हैं और एक-दूसरे को गुलाल लगाते हैं और मिठाइयां बांटते हैं। वर्ष 2022 में होलिका दहन का समय इस प्रकार है –

इन्हे भी पड़े :

holi kab hai

हिली का टाइम किया है 

  • Holika Dahan Muhurta 9.20 to 10.31 minutes
  • Total Duration – Approx 1 Hour 11 Minutes
  • Bhadra Poonch – 09:20:55 to 10:31:09
  • Bhadra Mukha – 10:31:09 to 00:28:13
होली कितने देशों में मनाई जाती है

बंगलादेश, श्री लंका पाकिस्तान,और मरिशस में भारतीय परंपरा के अनुरूप ही होली मनाई जाती है। प्रवासी भारतीय जहाँ-जहाँ जाकर बसे होते हैं वहाँ वहाँ होली की परंपरा पाई जाती है और मनाई जाती है । कैरिबियाई देशों में बड़े ही  धूमधाम और मौज-मस्ती के साथ होली का त्यौहार मनाया जाता है।

होली पर हिन्दी निबंध-essay-on-holi-in-hindi

भक्त प्रह्लाद के पिता हरिण्यकश्यप स्वयं को भगवान मानते थे। वह विष्णु के विरोधी थे जबकि प्रह्लाद विष्णु भक्त थे। उन्होंने
प्रह्लाद को विष्णु भक्ति करने से रोका जब वह नहीं माने तो उन्होंने प्रह्लाद को मारने का प्रयास किया। प्रह्लाद के पिता ने आखर अपनी बहन होलिका से मदद मांगी। होलिका को आग में न जलने का वरदान प्राप्त था। होलिका अपने __ भाई की सहायता करने के लिए तैयार हो गई। होलिका प्रह्लाद को लेकर चिता में जा बैठी परन्तु विष्णु की कृपा से प्रह्लाद सुरक्षित
रहे और होलिका जल कर भस्म हो गई।

हिली के भजन -Radha Krishna Holi Special Bhajan  

मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग,
ओ बारे रसिया हा बारे रसिया,
मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग॥

सास ननंद से नहीं डरूंगी,
सैया के बोल सब सह लूंगी मैं तो तुम संग,
मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग॥

ना चाहिए हमें महल अटारी,
टूटी झोपड़िया में रह लूंगी मैं तो तुम संग,
मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग॥

ना चाहिए हमें खीर रावड़ी,
खट्टी छाछ ही पी लूगी मैं तो तुम संग,
मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग॥

चंद्र सखी तो रमण तुम्ही संग,
दिल की बतियां कह दूंगी मैं तो तुम संग,
मैं तो तुम संग होली खेलूंगी मैं तो तुम संग॥

इन्हे भी पड़े :

Holi 2022 Date: जानिए रंगवाली होली तारीख एवं होलिका दहन मुहूर्त

बेस्ट होली सांग 2022 -best holi songs 2022

source; Annapurna Films

https://youtu.be/FeF7n-8xAho

 

Leave a Comment